KISAN के लिए फसल गिरदावरी (Fasal Girdawari ) की जानकारी | Girdawari App In Madhya Pradesh

KISAN के लिए फसल गिरदावरी (Fasal Girdawari ) की जानकारी | Girdawari App In Madhya Pradesh

फसल गिरदावरी क्या है ? (What Is Fasal Girdhawari?)

KISAN के लिए फसल गिरदावरी (Fasal Girdawari ) की जानकारी | Girdawari App In Madhya Pradesh : फसल बीमा, प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान की भरपायी, बैंक ऋण, योजनाओं के लाभ लेने हेतु यह मत्वपूर्ण है | फसल गिरदावरी प्रतिवर्ष की जाने वाली एक अत्यंत महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो कि वर्ष में दो बार एक बार रबी के सीजन में और एक बार रबी सीजन की बुवाई के पश्चात की जाती है और इसकी समस्त जानकारी भू-अभिलेखों में दर्ज की जाती है।

फसल गिरदावरी (Fasal Girdawari) जानकारी की आवश्यकता

फसल गिरदावरी (Fasal Girdawari) जानकारी कई मामलो में आवशयक हे जैसे की फसल बिमा के लिए, प्राकृतिक आपदा से हुए नुक़्सानो की भरपाई के लिए, बैंको द्वारा ऋण दिए जाने की स्तिथि में एवं अनेक प्रकार की फसल से सम्बंधित योजनाओ के लाभ लेने के लिए और इस प्रकार की जानकारी शासन इस लिए भी लेते हे जिससे की प्रदेश में समय रहते फसल प्रबंधंन, विपणन सम्बंधित तैयारियों में ज्यादा से ज्यादा समय मिल सके जिसका लाभ कृषको और शासन हो सके




किसानो के लिए कृषि के क्षेत्र में सूचना प्रोधोगिकी और अत्यधिक सटीक जानकारी के लिए और किसानो के लिए विभिन्न क्षेत्रों में लाभ लेने के लिए किसानो के लिए फसल गिरदावरी मोबाइल एप्प ( Moblie App ) उपलब्ध कर दिया गया हे जो की एप्प स्टोर या प्ले स्टोर पर उपलब्ध है यह एप्प किसानो को अनेक फायदे पहुचाने के लिये उपयोगी है जैसे की फसल बीमा, प्राकृतिक आपदा की स्थिति में नुकसान की भरपाई और बैंको द्वारा मदद लेने में

फसल गिरदावरी (Fasal Girdawari) प्रति वर्ष की जाने वाली एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो वर्ष में दो बार की जाती है तथा भू-अभिलेखों (bhu Abhilekh) में दर्ज की जाती है। इसके माध्यम से किसानों को फसलों की बोवाई, वृक्षारोपण आदि जानकारी मोबाइल पर उपलब्ध होगी। मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से पटवारियों को उनके गांव के सभी भू-स्वामियों के सभी खसरों की जानकारी प्राप्त हो सकेगी तथा उनके द्वारा कृषक से संपर्क कर लगाई गई फसल की जानकारी गांव से ही भरी जा सकेगी

शासन के निर्देशानुसार गिरदावर एप के लिए पटवारियों ने मोबाइल फोन पर उपलब्ध होगी , जिससे फसल का समस्त रकबा और बोई गई फसल की भी सही जानकारी ऑनलाइन मिलेगी । किसानों को प्राकृतिक आपदा जैसी किसी भी स्तिथि होने पर मुआवजे के लिए पटवारियों दफ्तरों के बार बार चक्कर नहीं लगाने होंगे। और किसान इस एप की मदद से भावांतर और समर्थन मूल्य का रजिस्ट्रेशन भी करा सकेंगे।

पटवारी को कृषि भूमि पर पहुंचकर एप पर किसान का नाम, सर्वे नंबर और किसान का मोबाइल नंबर दर्ज करेगा। किसान ने जो सर्वे नंबर दिए हे उसके खेत व उसके रकबे में बोई फसल की जानकारी दर्ज की जाएगी। जैसे ही जानकारी एप पर अपलोड की जाएगी। किसान के मोबाइल पर जो की किसान ने दिए हे दर्ज की जा रही फसल की जानकारी के व ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) आएगा। फसल सही होने की स्तिथि किसान पटवारी को ओटीपी देगा। ओटीपी दर्ज करते ही फसल की जानकारी ऑनलाइन दर्ज हो जाएगी।|

Saara Girdhawari - Coming soon